Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शनिवार, 4 फ़रवरी 2012

आजमाइश..................


आजमाइश पे भी अपनी, गौर   फरमाएं ज़रा,
दूसरों को आजमाने में भी जल जाते हैं हाथ !
                                           न करें फिकराकसी  यूँ  दूसरों के हाल पे,
                                           गौर करिए खुद पे भी,जब छोड़ देता है वो साथ ! 
आते जाते यूँ तो रहते है न जाने कितने शख्स,
है वही अपना  तेरा, जो जिंदगी भर देता है साथ !
                                            इस जहाँ में किसको हम अपना कहें और क्यूँ कहें?
                                            जब जरूरत आ पड़ी,  न था कोई भी मेरे साथ.....
हाथ छोड़ा उसने ये कह कर बड़े ही नाज़  से,
कौन हूँ मैं? और क्या हूँ? अपनी खुदगर्जी के साथ  !!


11 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन के कटु सत्यों को सम्हालना पड़ता है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. vah bahut sundar hakikat ko khoobsoorat andaj me bayan kr diya apane.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है जीवन भर कोई विरला ही साथ देता है ... जो देता है उसकी कद्र होनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bade hi sundar tareeke se punam jee aapne zindgi ke falsafe ko bataaya hai./
      aap bahut dino se mere blog par nahi aayi hai ./

      हटाएं
  4. तीसरा शेर सबसे उम्दा.....

    फिकराकशी होना चाहिए शायद |

    उत्तर देंहटाएं
  5. sach kaha hai..... achi rachna hai... badalte waqt ke sath bahut kuch badal jaata hai... par insaaan ajmaane se kaha baaj ata hai... keep writing... yu hi ... jyu hi... keep writing....

    उत्तर देंहटाएं