Text selection Lock by Hindi Blog Tips

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2013

महकायेंगे दामन तेरा...गुलाब जैसे हों....





चिंगारी को हवा दे कोई.....ज़ज्बात ऐसे हों...
रौशन हो दिल किसी का...एहसास ऐसे हों...!


तुम जल के भी जलते रहे...रौशन न हो सके...
हम मिट के भी रौशन हुए...माहताब जैसे हों...!!


आये थे तेरी बज़्म में....कुछ सुनने सुनाने...
मिट ही गए हम तुझ पे यूँ...मुमताज़ जैसे हों...!


खुशबू-ए-गुल की कभी...कम नहीं होगी...
महकायेंगे दामन तेरा...गुलाब जैसे हों....!



संध्या...७.५०
२८/०२/२०१३



 

8 टिप्‍पणियां:

  1. गुलाब के लिये सोच बढिया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत खूब दी........कभी कभी हमारे ब्लॉग के लिए भी वक़्त निकल करो ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. tum jal ke bhi jalte rahe... raushan na ho sake......... ati sundar

    उत्तर देंहटाएं