Text selection Lock by Hindi Blog Tips

गुरुवार, 23 अगस्त 2012

गाफ़िल ......






                                             प्यार पे उज़्र तो रहता है यूँ जमाने को  
                                    ये अलग बात है ये आज हुआ है तुमको !

                                    साथ चलते हुए तुम यूँ कहीं मुड़ जाओगे 
                                    हमारे इश्क से भी तुम यूँ मुकर जाओगे !

                                    सुकून,चैन मेरा खो गया मिल कर तुझसे 
                                    वो मेरा इश्क था मासूम जो किया तुझसे !

                                    मगर कभी न तुझे मुझपे एतबार रहा 
                                    तेरा वजूद  ही  हरदम यूँ  बेकरार  रहा !

                                    तलाश खुद की ही तुझको रही महफ़िल महफ़िल 
                                    मैं  हुई  तुझसे.....मगर तू  हुआ  खुद से गाफ़िल !






!

8 टिप्‍पणियां:

  1. बस अपने को ढूढ़ रहा हूँ,
    भीड़ों के भीतर तकता हूँ,
    अनसमझे को ढूढ़ रहा हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति.. इसे ग़ज़ल तो संभवतः नहीं कहा जा सकता..लेकिन हर ख्याल अपने आप में पूरा है..!!

    उत्तर देंहटाएं