Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सोमवार, 7 फ़रवरी 2011

एहसास




आप किसी चीज़ को पकड़ कर
रखने की कोशिश करते  हैं,
तो उसके छूटने पर
आपको दर्द और दुःख का
एहसास होता है.
जब हाथ ही खुला हो
तो छूटने का या--
छोड़ने का दर्द नहीं होता..
हथेली पर,
रह जाता है.....
उसका एक मीठा सा एहसास !
जिसे आप जहाँ चाहें,
जब चाहें...
महसूस कर सकते हैं !!
बंद मुट्ठी
खुलने पर तनाव का
एहसास दिलाती है !!
फिर बात हथेली की हो
या दिल की...............!!!

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही मर्मस्पर्शी अहसास.
    सुन्दर नज़्म.

    आपकी कलम को शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन पंक्तियाँ ! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब किसी से कोई expectations ना हो तो बाद में दुःख नहीं होता....
    बढ़िया संवेदना

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचना ............बसंत पंचमी की शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसी अनुभूति सभीको आती है. लाजवाब रचना!बसंत पंचमी की शुभकामनाये पुनमजी!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. पूनम जी आपका ब्लॉग और रचनाएं अच्छी लगीं ... परसों ११ फरवरी को आप कि यह रचना चर्चामंच पर होगी... सादर
    http://charchamanch.blogspot.com...वहाँ आ कर अपने विचार से अनुग्रहित करें और टिपण्णी भी दें...

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sunder....kisi ko bandhne se khone ka dar hamesha rhta aur agar mukat kar do to kitna sukun...ati sunder...

    उत्तर देंहटाएं
  8. फिर बात हथेली की हो
    या दिल की.......!!!

    कितने साहसी होते हैं वे लोग जो हथेला या दिल खुला रख कर मुस्कराते हुए जी लेते हैं।एक साहसिक सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सही कहा...

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. हम्म्म्... सही तो है....!

    पर सहमति धीरेंद्र जी से " कितने साहसी होते हैं, वो लोग जो हथेली खुला रख के मुस्कुरा लेते हैं।"

    उत्तर देंहटाएं