Text selection Lock by Hindi Blog Tips

रविवार, 27 नवंबर 2011

रिश्ते.....पास भी...दूर भी !!

कल अपनी एक डायरी उठाई काफी देर तक उसे पढ़ती रही..अपना ही लिखा हुआ अनजाना सा लगा...लगा ही नहीं कि मेरा ही लिखा हुआ है.कई बार हम खुद तो कुछ नहीं चाहते लेकिन साथ वाले की मन:स्थिति हमें कुछ सिखा देती है...बता देती हैं और हम अनजाने ही सब सीखते जाते हैं,समझते जाते हैं...ईश्वर की कृपा बनी रहे तो अपरोक्ष ही सीखना बेहतर होता है. .वर्ना हाथ तो हमारे भी जलते-झुलसते हैं....
और ये जलन बर्दाश्त के बाहर होती है !
                   जिस समय लिखा था उस समय के हालात और थे और आज के हालात कुछ वैसे ही हैं. हाँ !! एक बात ज़रूर हुई  इस बीच...मैंने खुद को पा लिया...आज भी सब कुछ पूर्ववत ही है !!   ये दुनिया अपने हिसाब से चल रही है !! रिश्ते-नाते, अपने-पराये (कुछ नए नाम जुड़े,कुछ पुराने,डिलीट तो नहीं कहूंगी,हाँ होल्ड पर जरूर हैं)और जीवन से वास्तविक परिचय धीरे-धीरे होता चला गया इसी बीच....!!!
        २००६ से २०११ का समय बीत गया....एक लम्बा अरसा जो मैंने अकेले जिया..किसी को इसका क्रेडिट नहीं दूंगी क्योंकि इस समय कोई मेरे साथ था ही नहीं....सिवाय मेरे,मेरे और मेरे.....!!
          अभी से कुछ संस्मरण (एहसास भी कह सकती हूँ पर नहीं  कहूँगी क्यूंकि  एहसास बोल  कर दुबारा कष्ट नहीं देना चाहती खुद को और न ही दुबारा जीना चाहती हूँ वो सब) मेरी डायरी के रहेंगे वर्ना सब मेरे साथ ही रह जायेंगे ऐसे ही लिखे हुए.....शायद इससे हम (मैं आप की बात नहीं कर रही हूँ ) आपसी संबंधों,रिश्तों,परिस्थितियों और अपनी ही भावनाओं-अनुभूतियों को समझ सकें....! अपना ही लिखा हुआ हर बार ही खुद को कुछ नया एहसास करा जाता है !
          कृपया, अगर आपसे विचार मेल खातें हों या न खाते हों तो अन्यथा न लें ! बस, और रचनाओं की तरह इन्हें भी सहजता से ही लें......!!
शुक्रिया......!!


३०-१०-२००६
रिश्ते.....पास भी...दूर भी !!




कुछ बने-बनाए
कुछ खुद से बनाए
ये रिश्ते !
कुछ चाहे
कुछ अनचाहे
ये रिश्ते !
क्यूँ उलझता है
इंसान इसमें ?
किसलिए ?
सहारा,प्यार,अपनापन !
क्या खोजता है इनमें ?
जो बने-बनाए रिश्ते-
उनमें अब रस नहीं...!
जो खुद से बनाए रिश्ते-
उनमें बंधन नहीं..!
कुछ चाहे रिश्ते...
जिनमें प्यार नहीं...!
कुछ अनचाहे रिश्ते...
जिनमें अपनापन नहीं...!
इंसान इनमें बंधना
और आज़ाद रहना
दोनों ही चाहता है साथ-साथ !!
फिर कुछ ऐसे रिश्ते भी हैं
जिनमें एकाएक कुछ दीखता है..
प्यार,अपनापन,सहारा,एहसास !
जो इंसान अपने चारों तरफ
बेसब्र हो कर खोजता रहता है
(अपनी अपूर्णता जो उसकी खुद की है)
लेकिन कहने को...
हर रिश्ते की अपूर्णता
उस रिश्ते में
पूर्ण होती सी दिखाई देती है !
बाकी सारे रिश्ते
गांठों की तरह
ढीले होते से लगते है,
मन बेचैन,
शरीर थका सा !!
अब क्यूँ..??
फिर भी जीवन में
कहीं कुछ अपूर्ण है
जिसकी खोज में भटक रहा है वो !
जो है...उसमें भी
आनंद नहीं ले पा रहा है
और जिस आनंद की खोज में है
वो मिले कैसे...???
यह वह समझ नहीं पा रहा है !
तो फिर क्या करे..?
क्या इन रिश्तों में है वो आनंद !
जिन्हें वो खोज रहा है...!!
या फिर उसकी खोज में
रोज़-रोज़ नए रिश्ते बनाते जाये..!!!
हर रिश्ता एक बंधन देता है
कुछ चाहता है,कुछ मांगता है
स्थूल और सूक्ष्म तरीके से !!
उसकी पूर्ति हम कैसे करते हैं ?
यह हर व्यक्ति और
परिस्थिति पर निर्भर करता है.....!!!
फैसला आपके हाथ.........



31 टिप्‍पणियां:

  1. होता है ऐसा कि कई बार अपना लिखा भी अनजाना सा लगता है... क्यूंकि हम हर पल बदलते हैं... जीवन सरिता की तरह बहती जो है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन के विविध रंग उभर आये आपकी इस पोस्ट में .....बहुत सी बातें बहुत से अहसास .....लेकिन जीवन चलने का नाम है..बस चलते जाना है .....चलते जाना है ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. Poonam ji...

    Duniya main ho koi rishta..
    Man se man jo jodega..
    Sahaj, madhur se un rishton ko..
    Kyonkar koi todega..

    Man se man bandhte hain jab bhi..
    Rishte khud hain jud jaate..
    Antar main ahsaas panaptw..
    Hruday pushp hain khil jaate..

    Sundar vratant...diary ke agle safon ki pratiksha rahegi..

    Shubhkamnaon sahit

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओह ! पूनम जी निशब्द हूँ ...आँख खोल देने वाली रचना यद्यपि ये विचार पहचाने से हैं जैसे मुझसे और कभी कहे गएँ हों .... तथापि इनका सच में मतलब अब समझ में आता है !
    मैंने एक दिन कहा था आपसे कि आप इस यात्रा में काफी आगे निकल गए हो मगर इतना आगे निकल गए हो इसका अंदाजा आज ही हुआ !
    एक मेसेज है आपकी कविता में और ऊपर आपके कथानक में भी
    ...मैं बस इतना ही कहूँगा कि आभारी हूँ आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या इन रिश्तों में है वो आनंद जिसे वो खोज रहा है ....
    हर रिश्ता एक बंधन देता है
    कुछ चाहता है, कुछ मांगता है
    स्थूल और सूक्ष्म तरीके से !!...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिलकुल सही कहा आपने ऐसा कई बार मेरे साथ भी हुआ है ! मगर आपने जो इन एहसासों को लफ्ज़ दिए हैं वो काबिल-ऐ-तारीफ हैं !
    बहुत सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही कहा आपने। रिश्ते पास भी होते हैं और दूर भी होते हैं। कभी कभी तो दूर के लगने वाले रिश्ते बिलकुल अपने लगते हैं और जो पहले से नजदीक होते हैं दिलों की खाई उन्हें बहुत दूर कर देती है।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल 29/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आनंद जी...
    अपनी अपनी यात्रा है और अपने सफ़र में
    हम सभी कहीं न कहीं अकेले हैं ! कहीं किसी मोड़ पर
    कोई साथ दे देता है तो कोई छोड़ भी देता है...!
    आखिरकार चलना हमें खुद ही पड़ता है..!!
    कोई आगे,कोई पीछे....
    पहुंचना सभी को एक ही जगह है...!!
    गंतव्य सुनिश्चित है.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. डायरी पढ़कर लगता है कि हम कितना बदल जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह रिश्ते भी बारे अजीब होते है जिन्मो अपना समझते वो तो होते ही नहीं है हमारे पैर हम उनमे ही उलझे रहते है

    उत्तर देंहटाएं
  12. समय बहुत कुछ बदलता है..... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. कई बार अपना आप ही अनजाना लगता है...
    लगता ही नहीं कि ये हम हैं...

    अच्छा चिंतन...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  14. हममे से सबों की ज़िन्दगी कुछ इसी उतार चढ़ाव के बीच गुजरती है। कभी कोई अपना बनता है कभी वह बिछड़ जाता है। जीना हर हाल में पड़ता है। कुछ इसे आदत बना लेते हैं कुछ इन्हें झेल नहीं पाते। बस यूँ ही चलता रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. ये सच है पूनम जी की हमारी किसी खास वक़्त की मानसिक स्थिति अलग-अलग होती.......और उसी के अनुसार हम फैसले करते हैं.......जो बीत गया सो बीत गया........रिश्तो के लेकर बड़ी खुबसूरत नज़्म लिखी है आपने.......मैंने भी कुछ ऐसा ही लिखा था कभी......सोच रहा हूँ पोस्ट में डालूँ कभी.......कोशिश करूँगा 'रिश्ते' बहुत जल्द जज़्बात पर|

    उत्तर देंहटाएं
  16. यूँ ही चलता रहता है जीवन का ये उतार चदाव ..रिश्तों में समय के साथ लगता है हम खुद से ही बेगाने हो गए हैं ..बेहद भाव पूर्ण अभिव्यक्ति...शुभ कामनायें !!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर भावों से बेहतरीन रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  18. पूनम जी,..
    अपने जीवन के अहसासों बड़ी सहजता से
    इस रचना में सहेजा है,काबिले तारीफ
    बेहद उम्दा पोस्ट,...बधाई ...
    मेरे पोस्ट् 'शब्द'में आपका इंतजार है...

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी संपत्ति :-)

    बहुत खुबसूरत अहसास..........डायरी के ये पन्ने बहुत अच्छे लगे.....रिश्तो को लेकर खुबसूरत अहसास हैं.......मैंने भी ऐसा कुछ लिखा था पहले.....बहुत जल्द जज़्बात पर पोस्ट करूँगा|

    पहली बार में जो उदगार पोस्ट के लिए होते हैं वो दुबारा शायद नहीं आ पाते......पता नहीं आजकल टिप्पणी कहाँ चली जाती है ?

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खुबसूरत अहसास..........डायरी के ये पन्ने बहुत अच्छे लगे.....रिश्तो को लेकर खुबसूरत अहसास हैं.......मैंने भी ऐसा कुछ लिखा था पहले.....बहुत जल्द जज़्बात पर पोस्ट करूँगा|


    पहली बार में जो उदगार पोस्ट के लिए होते हैं वो दुबारा शायद नहीं आ पाते......पता नहीं आजकल टिप्पणी कहाँ चली जाती है ?

    Regards
    Imran Ansari

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  23. रिश्तों की यही फितरत है ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. आनंद की खोज में हर कोई लगा है.
    शायद परमानन्द से रिश्ता जोड़ने की भी इसीलिए कोशिश है.
    परमानन्द से रिश्ता जुड़ते जाये, और रिश्ते भी तभी सार्थक हैं.

    बहुत अच्छी भावपूर्ण विचारणीय प्रस्तुति है आपकी.

    मेरे ब्लॉग पर आप कृपा दृष्टि बनाये रखियेगा ,पूनम जी.
    आपके सुमुधर वचन मुझे उत्साहित करते हैं.
    आपका इंतजार करता रहता हूँ.
    यूँ देर न कीजियेगा,प्लीज.

    उत्तर देंहटाएं
  25. रिश्तों को समेटती ये पन्ने गहरा एहसास करा जाती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. khud ko paane ke liye dukh sahnaa bhee pade to achhaa ant kahlaayegaa,
    par sahte huye jeenaa aasaan nahee hai ,kahne mein aasaan lagtaa hai magar jab khud par gujartee hai to sahne waalaa hee samajh saktaa
    bahut sateek bhaavnaatmak

    उत्तर देंहटाएं