Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सोमवार, 7 नवंबर 2011

दोहे पूनम के...................




दुनिया ऐसी बावरी,
                               सीख  देय  सब कोय !
वही सीख खुद गुन रहे,
                               सीख सीख तब होय !!


*************************************


तेरे मन में क्या छिपा ,
                                  तू जाने, तू सोच !
मेरा मन  खाली  भया,
                                अब न रहा संकोच !!


*************************************


जिव्हा तू बडभागिनी,
                                   बड़े बड़ों को मारे !
तुझसे ही तो सब डरें,
                                   तू न सोच बिचारे !!


*************************************


अपना कहा बिसरा दिया,
                                     दूजे  का किया याद !
अपना कहा जो बिचारे,
                                     कबहूँ न रहे बिसाद !!


*************************************


भूत भविष्य सब सीख है,
                                          जो दूजे को देय !
अपने पर जब आत है,
                                        दोनों एक ही होय !!


***********************************


मानुस बिचारा बावरा,
                                     दूजे की सोच बिचारे !
अपने मन की न दिखे,
                                     दूजे अवगुण ही निहारे !!


************************************


प्यारे से ही प्यार है,
                                  और प्यार संसार !
खुद से भी कर लीजिये,
                                      बस  थोड़ा सा प्यार !!



16 टिप्‍पणियां:

  1. सभी दोहे सुंदर , अर्थपूर्ण हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार भरा संसार हो, रहे प्यार आधार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुभानाल्लाह ..........दोहे भी उतने ही शानदार है जितनी आपकी एनी रचनाएँ होती हैं...........बहुत पसंद आये|

    उत्तर देंहटाएं
  4. मिलकर रहना सिखाती बहुत खूबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  5. सभी दोहे
    जीवन दर्शन की ही बात कर रहे हैं
    बहुत अच्छी प्रस्तुति ...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है पूनम जी
    आज तो उपवन अध्यात्म की पावन और भीनी भीनी सुगंध से सुवासित है
    बहुत शांति दायक दोहे
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  7. tumhaare man kee tumne likh dee
    mere man mein likh doon


    tumhaare dohe ham ko bhaaye
    phir kab likhoge ye bhee bataao

    उत्तर देंहटाएं
  8. पूनम जी
    नमस्कार !

    आपके इस ब्लॉग की एक एक पोस्ट जो पिछले दिनों आईं … और जिन जिन पर मैं नहीं पहुंच पाया … लगता है बहुत कुछ खोया है मैंने…

    तेरे मन में क्या छुपा , तू जाने , तू सोच !
    मेरा मन खाली भया , अब न रहा संकोच!!


    हे भगवान ! इतना ख़ूबसूरत छंद का रचनाकार !
    … हमारी तो छुट्टी हुई फिर तो …

    पूनम जी इतने सुंदर और श्रेष्ठ दोहों के लिए शब्द नहीं मेरे पास …

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी 'bas yun... hi.....' पर
    आकर मग्न हो जाता है मन.

    कबीर के दोहे बहुत अच्छे लगते थे.
    अब 'दोहे पूनम के' भी दिल में उतर गए.

    आपको दिल से बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं