Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शुक्रवार, 3 जून 2011

काश....








हो रात भरी तारों वाली
महकी महकी काली काली !
उस रात के भीने आंचाल में
हाथों को डाले हाथों में !
चलते-चलते खो जाएँ कहीं 
धरती से मिले आकाश वहीँ !
आँचल का बिछौना मैं कर लूं
बाहों का सिरहना तुम कर लो !
सो जाओ तुम उस बिस्तर पर
आगोश में लेकर तुम मुझको !
है चुप धरती,आकाश है चुप  
है तारे चुप और रात भी चुप !
जब मौन हों सारी भाषाएँ
जब पूरी हों सब आशाएं !
जब तुम हो साथ नहीं कोई

बस साथ मेरे है रात यही !!


8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब पूनम जी.
    खूबसूरत अहसास और नज़्म की रवानगी क्या कहिये.
    शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर अहसास से भरी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. भावमय करते शब्‍द हैं इस रचना के ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन के भावों बड़ा ही सुन्दर शाब्दिक रूप दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्‍दर शब्‍दों के साथ भावों का बेहतरीन संयोजन ...।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह...वाह...सुभानाल्लाह.....कितनी रोमांटिक पोस्ट है.....चलो तुमको लेकर चले हम उन फिजाओं में.......शानदार ......हैट्स ऑफ

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावों का बेहतरीन संयोजन...पूनम जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    उत्तर देंहटाएं