Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 21 जून 2011

स्पर्श...




तुमने मुझे
छुआ नहीं
फिर ये
सिहरन कैसी ?
शायद
ये हवा का झोंका
तुम्हारे पास से
आया होगा......!!


17 टिप्‍पणियां:

  1. शायद हवा का ये झोंका ......

    बहुत सुंदर .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब.
    उसके होने का अहसास ही तो मुहब्बत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाव बिना माध्यम के ही बह सकने में सक्षम हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुभानाल्ह.......कितनी छोटी सी बात में कितना गहरा अहसास छुपा है ....वाह

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ..बहुत खूब ... प्यारी रचना और सुखद एहसास

    उत्तर देंहटाएं
  6. अति सुन्दर...
    जाकि रहे भावना जैसी हरी मूरत तेहि देखे तैसी

    उत्तर देंहटाएं
  7. Bahut achha Punam Ji...yahi hawa ka jhonak to hamein jeene ki aas deta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इतनी सुन्‍दर पंक्तियां आपकी ही कलम का जादू है ....।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शायद हवा का ये झोंका ......बहुत सही

    उत्तर देंहटाएं
  11. पूनम जी

    सिहरन पैदा करती रचना के लिए ……… आभार !


    हार्दिक शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं