Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 22 मार्च 2011

क्या लिखूं.....??




आज-
फिर लिखने को
मन कर रहा है....
पर क्या लिखूं?
समझ नहीं
नहीं पा रही हूँ...!
क्या करूँ.....??
शायद-
तुम ही दे सको
लिखने को मुझे कुछ !!
यह सोच कर
एलबम से निकालती हूँ तुम्हें !!
पर...
तुम्हें देखा तो
यूँ लगा
जैसे तुम-
मुझमें ही
कुछ खोज रहे हो..!!
एक सिहरन,
एक थिरकन सी....
और काँप गई मैं !!
नहीं,
यूँ नहीं !
तुम नहीं लिखने दोगे
आज भी मुझे,
कल जब तुम्हें
फिर से
एलबम में
बंद कर दूँगी,
तब फिर से
कुछ सोचूँगी मैं......
लिखने के लिए !!



36 टिप्‍पणियां:

  1. क्या सुंदर भाव है पूनम जी सच में एक सिरहन सी हो गयी......धन्यवाद एक सुन्दर रचना के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँख बन्दकर बैठे, जो विचार आकर ठहर जाये, उसी पर लिख डालें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यादों से जुड़े रिश्तों की सच्चाई
    और चंद खूबसूरत लफ्ज़ ...
    कुछ काव्य तो हो ही गया .....

    अच्छी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ न लिखने से कुछ लिखना ज्यादा अच्छा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आखिर मन की मानी आपने और आज तो लिख ही डाला ,अब कल फिर एलबम के सहारे लिखने की बारी है. वाह! शानदार अभिव्यक्ति हो गयी .
    मेरी पोस्ट 'बिनु सत्संग बिबेक न होई' पर आपका स्वागत है,निराश न कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ न लिखते हुए भी बहुत कुछ लिख गयी आप.
    एलबम में बंद मत करिए उन्हें नहीं तो कुछ नहीं लिख पायेंगी.
    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर...
    तुम्हें देखा तो
    यूँ लगा
    जैसे तुम-
    मुझमें ही
    कुछ खोज रहे हो..!!
    एक सिहरन,
    एक थिरकन सी...

    बहुत सुन्दर भाव हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या कहूँ ..
    बस इतना की कविता सुन्दर लगी..
    एल्बम खुलते ही सब्दकोश न जाने क्यों ख़तम से लगने लगते है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. पूनम जी,

    शानदार अभिव्यक्ति है....एल्बम का ज़िक्र शानदार लगा......प्रशंसनीय |

    उत्तर देंहटाएं
  10. लिखेंगे तो कुछ लिख ही जायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  11. kya kahu kahte huye ...dekhiye kitna accha likh dia aapane
    check out mine blog also
    and i hope you will like my blog
    http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीया पूनम जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !


    कल जब तुम्हें
    फिर से
    एलबम में
    बंद कर दूंगी,
    तब फिर से
    कुछ सोचूंगी मैं …
    लिखने के लिए !!


    याद उन्हें भी आती है जिनके पास एलबम न हो … :)
    एलबम अंदर रखने से कुछ हल कहां निकलने वाला है ?! :)

    … और यादों का ख़ज़ाना ही तो है जिसने आपको इतना लिखने की प्रेरणा दी है … … …
    हमारी उम्मीदें बनी हुई हैं … अच्छी कविताएं पढ़ने की आपके यहां …
    हाऽऽ हा … हऽऽ …


    ♥ हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!♥


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  13. poonamji ! और कुछ नही तो नमस्ते ही लिख दीजिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. Kuch nahi likha phir bhi itna sunder lekh.....mai intejaar karunga us din ka jab aap kuch likhe,
    badhai***

    उत्तर देंहटाएं
  15. यहाँ न लिखने का तो सिर्फ बहाना है ...लिखते -लिखते बहुत कुछ लिख गयीं आप ...सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. तुम ही दे सको लिखने को कुछ ..... बहुत बढ़िया ...
    सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  17. होली की बहुत बहुत शुभकामनाये आपका ब्लॉग बहुत ही सुन्दर है उतने ही सुन्दर आपके विचार है जो सोचने पर मजबूर करदेते है
    कभी मेरे ब्लॉग पे भी पधारिये में निचे अपने लिंक दे रहा हु
    धन्यवाद्

    http://vangaydinesh.blogspot.com/
    http://dineshpareek19.blogspot.com/
    http://pareekofindia.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  18. तो आप के भी समक्ष ए सवाल आ ही गया कि क्या लिखूं ? और आप लिख नहीं ही पाईं. मगर न लिखने की सम्वेदनावों को बहुत खूबसूरती से उकेरा है!! क्या ब्बात है !! उत्तमम.

    उत्तर देंहटाएं
  19. Yadon ke album se nikli har tahreer ek khoobsoorat ehsaason se bhari tasveer ho gayi...laga shayad ye main hun jo likhna chahta tha...bahut bahut badhayee...

    उत्तर देंहटाएं
  20. bas yun hi koshish ki aapne...aur aapke sihran ne hamare kalam me thirkan paida kar diya...:)
    kya kahne hain....:)
    ALBUM kavita ke liye ek naya bimb diya aapne!!
    badhai!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. यह तो बहुत सुन्दर कविता है..अच्छा लगा यहाँ आकर.
    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. waah..Poonam Ji...aaj pahli baar aapke Blog par aanaa hua..bahut khoobsurat rachnayen hain..
    vastav men jo kavit khud ke liye kahi jaati hai wo hi doosron tak pahunch paati hai..aapki har rachna swantay sukhaay lagti hai..
    sabhi creations ke liye hardik abhivaadan..

    उत्तर देंहटाएं
  24. धन्यवाद अखिल...

    ब्लॉग पर आपका स्वागत है !!

    उत्तर देंहटाएं
  25. अमृता...आपकी रचनाएं बहुत खूबसूरत हैं...

    मुझे पढ़ने के लिए शुक्रिया..!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. कुंवरजी...

    बड़े दिन बाद आपका आगमन हुआ...

    नया साल शुभ हो आपको भी..!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. आनंदजी,प्रवीणजी,दर्शनजी,
    Daanish,रोशी,राकेशजी...

    आप सभी का शुक्रिया मुझ तक पहुँचने के लिए....!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. विशाल एवं संगीताजी...

    मृदुलाजी एवं इमरान साहेब..

    मुझे पढ़ने के लिए शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  29. आशुतोष, चिराग...

    अमरेन्द्र,संजयजी...

    केवल(राम) एवं मोनिका..

    आप सभी का स्वागत है !!





    पाखी,मुकेशजी, अमितजी..

    विजयजी,अरुण,Dinesh ...

    आप सभी का स्वागत है !!

    उत्तर देंहटाएं