Text selection Lock by Hindi Blog Tips

बुधवार, 6 अप्रैल 2011

दान...........


क्या चाहा था तुमसे?
कुछ नहीं...!!
कुछ भी तो नहीं !!!
फिर भी तुमने
दे डाला
बहुत कुछ  
और मैं...
मूक बनी देखती रही.
मेरे दामन को
पूरा भर डाला
मगर अपनी मर्ज़ी से....!
अपनी  इक्छानुसार ,
क्या नहीं डाला उसमें...! 
और मैं धन्य होती चली गई
बिना मांगे जो मिल रहा था...!!
नहीं जानती थी कि-
तुम  देते तो हो पर...
सब अपनी मर्ज़ी से !
देना तुम्हारी आदत है
और शौक भी.
फिर एक दिन...
तुमने ही  
निकालना शुरू किया 
उस दामन से 
जिसे मैं समझती थी
तुमने भरा था 
बड़े प्यार से !!
क्यूंकि...
बड़ी देर बाद पता चला मुझे
तुम जो भी देते आये हो 
सब एहसान था तुम्हारा!  
और फिर तुमने
जो दिया था 
एहसान के तौर पर..
सब निकाल लिया  
धीरे-धीरे !!
आज वह दामन खाली है
एहसास,प्यार,
एक-दूसरे के लिए सम्मान
सब ले लिया तुमने....
बस-
एक आत्मसम्मान बाकी है
उस दामन में
जो नितांत मेरा है!!



20 टिप्‍पणियां:

  1. हारकर जीत जाने का सुख, जीतकर हारने का दुख, दो पहलू हैं, हर एक के जीवन में।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही कहा है..आत्मसम्मान बचा रहे तो सब कुछ हारकर भी हार नहीं होती...बहुत सटीक भावमयी प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीया पूनम जी,
    आज आपने मेरे दिल की कह दी है.

    बस
    एक आत्म सम्मान बाकी है
    उस दामन में
    जो नितांत मेरा है.

    बहुत खूब.
    बहुत ही खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut khub....aek atmsmman baki hae us daman mae , jo nitant mera hae...bahut badiyaa...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस-
    एक आत्मसम्मान बाकी है
    उस दामन में
    जो नितांत मेरा है!!

    नारी कि स्थिति का सजीव चित्रण कर दिया है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिलकुल आत्मसमान अपनी निजी वास्तु है!!!! इसको समृद्ध करना और खर्चना अपना निर्णय ही होना चाहिए....

    उत्तर देंहटाएं
  7. संगीता स्वरुप जी से सहमत हूँ- " नारी की स्थिति का सजीव चित्रण कर दिया है ".
    सुदर भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  8. पूनम जी,

    दिल से कहता हूँ ये पोस्ट बहुत पसंद आई है मुझे.......बहुत गहरी बात कह गयीं हैं आप....पर मैं तो इतना ही कहूँगा........अपना सुख और दुःख हमें दूसरों पर निर्भर नहीं करना चाहिए......सुख और दुःख तो हमसे आते हैं भीतर से.....बाकी पोस्ट बहुत अच्छी लगी.....प्रशंसनीय |

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी का शुक्रिया !

    आप सभी के मेरे ब्लॉग पर आगमन के लिए मैं आभारी रहूंगी !!
    जब हम किसी के साथ रहते हैं या ज़िन्दगी में कुछ साझा करते हैं भले ही किसी भी रिश्ते में,तो वहां बात होती है-प्यार की,भावनाओं के आदान-प्रादान की,एक-दूसरे के सम्मान और आत्मसम्मान के रक्षा की....!!ये बातें शायद ज्यादा समय बीत जाने के कारण धूमिल हो जाती हैं और इंसान अपने सम्मान को बचाने के लिए दूसरे के सम्मान को अनदेखा कर देता है....लेकिन एक आत्मसम्मान बचा रह जाता है,इन सब बातों से बिलकुल परे....बिलकुल अछूता......अनदेखा...!!
    शायद आप मेरे विचारों से सहमत हों....शायद नहीं भी......!!
    सभी के विचार एक से नहीं होते लेकिन उनका सम्मान करना हमारे हाथ में है...!
    आप सभी की इतनी अच्छी प्रशंसा की मैं हक़दार बनी...!
    आप सभी का शुक्रिया !

    आप सभी के मेरे ब्लॉग पर आगमन के लिए मैं आभारी रहूंगी !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर रचना ....आपकी टिप्पणी में कही बात से भी पूरी तरह सहमत हूँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. Main v aapse puri tarah sahmat hun. ham jitna hote hain usase kam mahsus karte hain. aatmsmman kafi hai khud ko jitne k liye ...bahut achchhi lagi rachana...aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  12. थोडा देरी हुए आप की कविता तक पहुचने में क्युकी व्यस्त था आजकल ..
    बहुत सुन्दर कविता..कॉपी करके प्रिंट लेना चाहता था इसका मगर हो नहीं पाया कृपया सहायता करें में इसे अपने कविताओं के COLLECTION में शामिल करना चाहता था..
    अंतिम पंक्तिया बहुत हृदयस्पर्शी लगीं..

    उत्तर देंहटाएं
  13. आशुतोष....
    मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है इस बारे में !
    अगर आपको कुछ जानकारी हो तो मुझे भी अवश्य बताये...
    मेरी रचना पढ़ने के लिए धन्यवाद...!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कल 03/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह पूनमजी...छू गयी आपकी रचना ....वैसे सच पूछो तो ऐसे में सबसे पहले 'आत्मा सम्मान ' ही छीन लिया जाता है .....

    उत्तर देंहटाएं
  16. आत्मसम्मान बना रहना चाहिये …………बेह्द सराहनीय प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर चिंतनात्मक रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बस एक आत्मा सम्मान बाकी है ... वाह ... क्या बात है ... !!

    उत्तर देंहटाएं