Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शनिवार, 5 मार्च 2011

चुपके से..........





आसान  बहुत......
मन से मन की
कह देना !
मन कह दे तो-
मैं सुन लूंगी !!
खामोश ही रहना
अपनी जुबान से
न कहना कुछ
बस चुप रहना....
मन सुन लेगा,
मैं सुन लूंगी !!
न जाने कितना
कहा-सुना,
न आया अबतक
काम कभी !
जो मन समझे
तो सबकुछ है,
न समझे तो
बेकार सभी !!
बस आज
मेरी पलकों पर
धर के अपने अधर
तुम पास बैठ
न कुछ कहना !!
मन समझेगा...
मैं समझूँगी !!
आसान बहुत है
मन से मन की
चुपके से कह देना.....
तू कह दे तो
मैं सुन लूंगी !
गर तू सुन ले...
तो कह  दूँगी !!



18 टिप्‍पणियां:

  1. तू कह दे तो
    मैं सुन लूंगी......
    गर तू सुन ले तो.......
    मैं कह दूंगी
    बहुत सुंदर ....... कमाल की पंक्तियाँ हैं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर विचार युक्त कविता है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह! अनकहा और अनसुना जब बोलता है तो बनती है, इतनी सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन से मन की बात ,बड़ी दिलचस्प है ."कुछ दिल ने कहा ...
    कुछ दिल ने सुना ...,कुछ भी नहीं ..कुछ भी नहीं ......
    ऐसी भी बातें होती हैं ....ऐसी भी बातें होती हैं ..." एक पुराना गाना याद आ गया .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही भावपूर्ण एवं कोमल संवेदनाओं से भरपूर रचना ! अति सुन्दर ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छा लगता है खुद से बातें करना...एकांत में करना और भी सुख-कर होता है....किसी के द्वारा पागल कहे जाने का दर जो नहीं होता..

    उत्तर देंहटाएं
  7. धर के अपने अधर
    तुम पास बैठ
    न कुछ कहना !!
    मन समझेगा...
    मैं समझूँगी !!

    waah ... kya baat hai
    atyant bhaavpoorn bahut sundar rachna
    bahut badhiya likha hai
    badhaayi
    aabhaar

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह,वाह, वाह कविता में मन इतना डूब गया की टिप्पणी देते नहीं बन रहा है. अपने मन के वाह,वाह निनाद को रोकने के लिए मुझे टिप्पणी देनी पड़ी. मन कहीं और गहराई में ना पैठ जाये इसलिए मैंने आपकी दूसरी कविता पढ़ने का साहस नहीं किया.

    उत्तर देंहटाएं
  9. bouth he aacha post hai aapka dear... good 1
    happy women's day...Visit My Blog PLz..
    Download Free Music
    Lyrics Mantra

    उत्तर देंहटाएं
  10. बस यूँ ही "चुपके से" आपने बहुत कुछ कह दिया...अच्छी रचना|

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.
    मन ने 'चुपके से' ही बहुत कुछ कह दिया.
    सलाम

    उत्तर देंहटाएं
  12. देवेन्द्रजी....
    धन्यवाद !!
    अच्छा लगा कि आपने इतने ध्यान से मेरी रचना को पढ़ा !!
    कैसे मात्रा छूट गई...पता ही नहीं चला!!
    भविष्य में ध्यान रखूंगी !!

    उत्तर देंहटाएं