Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शनिवार, 21 सितंबर 2013

मैं.....






मेरे जीवन की अभिलाषा...
न जाने कब पूरी होगी...
अस्फुट से स्वर की चंचलता...
तुझ से मिल कर स्थिर होगी...
तू परिचित भी है..अपरिचित भी...
तू अपना भी...बेगाना भी...
न जाने ये कैसा अभिनय...
जाना भी है...अनजाना भी...
मेरे अपने...मेरे सपने...
तू पास भी है..तू दूर भी है...
तू मुझमें है आधा -आधा...
तू मुझमें ही सम्पूर्ण भी है...!!




***पूनम***



7 टिप्‍पणियां:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} 22/09/2013 को जिंदगी की नई शुरूवात..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल – अंकः008 पर लिंक की गयी है। कृपया आप भी पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें। सादर ....ललित चाहार

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यारी कविता मेरे भी ब्लॉग पर आये
    punam jee

    उत्तर देंहटाएं
  3. तू तू न रहा और मैं मैं न रहा... …अति सुन्दर दी |

    उत्तर देंहटाएं
  4. वही है.. वही है.. उसके सिवा कुछ कहीं नहीं है...

    उत्तर देंहटाएं