Text selection Lock by Hindi Blog Tips

रविवार, 2 दिसंबर 2012

वजूद........






तेरे होने के एहसास को 
इस तरह जिया है मैंने
कि अब अपने होने का एहसास ही
खो गया है मुझसे कहीं...!
अब एहसास है मुझे 
बस मेरे वजूद का,
और नहीं भी है....
क्यूँ कि वो मिल गया है..
तेरे वजूद के संग...!!



10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल 4/12/12को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. थोडे शब्दों में बहुत कुछ कह डाला,आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पिछली टिप्पणी में गलत सूचना के लिये खेद है ---

    दिनांक 16 /12/2012 (रविवार)को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वजूद मेरा मिल गया तुम से अब हमारा वजूद एक है ..मेरा वजूद तुम्ही से है. बहुत खूब

    मेरी नई कविता आपके इंतज़ार में है नम मौसम, भीगी जमीं ..

    उत्तर देंहटाएं