Text selection Lock by Hindi Blog Tips

बुधवार, 21 मार्च 2012

जिंदगी की राह..............



 



ये  आसमानी रास्ते कुछ ऐसे  खो  गए  हैं,
हम बादलों के साथ-साथ गुम से हो गए हैं  !!

चलते  थे साथ तेरे  जब हमसफ़र ,ओ मेरे !
इन राहों पे चलके कहीं हम तुम खो गए हैं  !!

ये जिंदगी की राह भी कुछ इस तरह से गुम है, 
न  तुम ही वो रहे अब, हम  भी न वो  रहे  हैं  !!

क्यूँ  कर छुपाई तूने यूँ हकीकत  जिंदगी की ,
अब लाख दे हवाला फिर भी न ख़म गए हैं. !!

10 टिप्‍पणियां:

  1. समय के साथ बहुत कुछ बदल जाता है ... रास्ते, बादल या फिर हमसफ़र ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर...
    यही तो जीवन है...
    कोई कहीं मिलता है...कोई खो भी जाता है यकायक....

    सस्नेह.

    उत्तर देंहटाएं




  3. न तुम ही वो रहे अब ... हम भी न वो रहे हैं
    क्या बात है ...
    वाह वाह !
    बहुत खूबसूरत !


    आदरणीया पूनम जी
    सुंदर रचना है ...
    बधाई ! !

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. धन्यवाद राजेन्द्र जी......
      बधाई आपको भी......
      साथ ही मेरे सभी मित्रों को भी.....!!

      हटाएं