Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शनिवार, 10 मार्च 2012

जब तेरा नाम......





                                           जब भी तेरा नाम लिया है मैंने  
                                           खुद से इंतकाम लिया  है  मैंने !


                                           चाह कर भी तुझे भुला न सके
                                           लाख की खुद से कोशिशें मैंने !


                                           अब तलक हूँ मैं गरिफ्त-ए-इश्क 
                                           तुझको  आज़ाद  किया  है  मैंने !


                                           ज़िन्दगी  मेरी  हुई  यूँ  आबाद
                                           जब से तुझको रिहा किया मैंने !


                                           तू मेरे दिल में अब भी रहता है
                                           की  तेरे  नाम  जिंदगी   मैंने  !


                                           यूँ तो बदनाम हूँ... तेरी खातिर
                                           फिर भी उसका मज़ा लिया मैंने !

18 टिप्‍पणियां:

  1. नाम ना सही बदनाम तो हूँ.......

    बहुत सुन्दर पूनम जी...
    बढ़िया गज़ल..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन,खूबसूरत गजल पूनम जी...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति...
    सादर बधाईयां..

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूनम जी आपसे contact किस तरह हो??

    उत्तर देंहटाएं
  5. बही खूब ... सच है किसी की यादों से छुटकारा पाना ही असल आजादी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. :)...खुद से इंतकाम लिया है मैंने !

    उत्तर देंहटाएं