Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शुक्रवार, 10 दिसंबर 2010

तुम्हारे लिए ----

तुम हो साथ मेरे-
पल - पल,
हर  छन.
हर अच्छे एहसास  में
हर अवसाद भरे पल में भी .
ज़िन्दगी में वो सुख के पल पाए हैं
जब तुम थे साथ मेरे--
केवल तुम....
ज़िन्दगी का हर वो लम्हा
जहाँ  कहीं  मैं अकेली  थी-
उदासी  भरे  पलों में
उस समय में भी थे
तुम साथ-साथ ही-
लेकिन थोड़ी  दूरी पर
चलते हुए
पर थे  साथ-साथ.......


१जनवरी, 2०१०

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.
    आप बहुत अच्छा लिखती हैं और गहरा भी.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं