Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 9 नवंबर 2010

तुम्हारे लिए..............



सारे एहसासों  का
एहसास  भी अजीब  है,  

कोई साथ हो 
फिर भी हो साथ-साथ... 
ऐसा एहसास भी अजीब है
शरीर हों साथ
पर मन हो साथ..

ऐसा साथ भी अजीब है,
जिस्मों में  हो दूरी
पर मन हों साथ-साथ... 

ऐसे साथ का एहसास
यह और भी अजीब है !

10 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह!
    शरीर हों साथ
    पर मन न हो साथ..ऐसा साथ भी अजीब है
    बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अजीब से एहसासों से लिखी भावपूर्ण रचना ...मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया



    कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीताजी ,बहुत बहुत धन्यवाद सुझाव के लिए,आपके निर्देशानुसार मैंने बदलाव कर लिया है,यदि कुछ और असुविधा हो तो कृपया मुझे निर्देश देती रहें. आपके सुझाव से लिखने में काफी सुविधा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रविजी,बस मन के भाव जो भाव हैं उन्हीं को सीधी-सरल भाषा में लिख डाला है.धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर अहसासों के साथ सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह !कितनी अच्छी रचना लिखी है आपने..! बहुत ही पसंद आई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......
    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं