Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 19 अगस्त 2014

ज़िंदगी.....





तुम्हें पढ़ना इक जिंदगी सा लगता है....
नहीं जानती वो जिंदगी कौन सी है...
जो जी रही हूँ...
जो जीना चाहती थी...
या जो बस कहीं ख्वाब में ही 
बुनी जा सकती है...!
चाहने से ही कुछ नहीं होता है...
ख्वाब भी सबका सच नहीं होता है...!!
देव....!
कुछ है कहीं...
जो अनजानों को भी बाँधता है..
हम सभी के बीच इक ऐसी ही डोर है...
जिसका खिंचाव समय समय पर...
एहसास दिला जाता है कि..
कहीं कुछ लोग हमारी तरह के भी हैं... !!




***पूनम***



2 टिप्‍पणियां:

  1. ---सुन्दर कथ्य ...
    ख्वाहिशों की कोइ इंतिहा नहीं होती .
    पूरी हर ख्वाहिश सदा नहीं होती |

    उत्तर देंहटाएं