Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 7 मई 2013

सलीका......





                  

                     हमीं से हम हैं,तुम हो और है ये कायनात अपनी
                     न होते हम तो फूलों में कहाँ से रंग-ओ-बू आती...!
                     हमारे प्यार से तुम थे कभी...पर आज बस हम हैं
                     सलीका हम से सीखा आपने अब शर्म है आती....!!



2 टिप्‍पणियां:

  1. हम ही हम हैं क्योंकि तुम भी समा गए हो हम में..सुंदर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं