Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 25 सितंबर 2012

द्विविधा.....










बड़ी द्विविधा में हूँ आजकल......
किसे स्वीकार करूँ.....???
एक वो 'तुम' हो 
जिसे मैं अब तक जानती थी,
पहचानती थी...!
आज वो कहीं गुम हो गया है 
तुम में....तुम्हीं में....! 
और आज एक वो 'तुम' हो...
जो उस तुम से अनजान 
अपने जीवन की सारी सच्चाइयाँ 
अपने आप में समेटे मेरे समक्ष है.......!
हमेशा ही तुम्हें एक सहारे की खोज रही...
कभी इंसान,कभी भगवान...
घर,बाहर,अपने शहर से दूसरे शहर...
अपने-पराये...
सब में सहारा खोजते हुए 
तुम इतनी दूर निकल गए 
कि अब वापस आना भी  
मुमकिन नहीं रहा...!
शायद तुम ये अच्छे से जान भी गए हो...!
तभी तो आज 
अपने ही अहं को सबसे बड़ा 
सहारा बना लिया है तुमने !
इसमें मैं कहाँ हूँ तुम्हारे साथ.....??
इस 'तुम' को मैं जानती नहीं....
न ही पहचानती हूँ...!
और 'वो तुम' रहे नहीं...
कभी सोचूँ भी तो...... 
बोलो किसे स्वीकारूँ....???

(लेकिन ये द्विविधा मेरी अपनी है....तुम्हारी नहीं....!!)





8 टिप्‍पणियां:

  1. ओह ! द्विविधा का क्या खूब चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह....बहुत ही सुन्दर....जीवन कई बार द्वन्द बनकर रह जाता है और हम मूक दर्शक की तरह अपने ही भीतर होते इस द्वन्द से पीड़ित होते रहते हैं.....दूसरा सदा अनजान रहता है इस दर्द से...... ये दर्द खुद हमारा होता है और इसे हमे ही झेलना पड़ता है......बहुत ही सुन्दर शब्दों में दुविधा का वर्णन किया है दी.....हैट्स ऑफ इसके लिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुविधा है तो समस्या है, वैसे तो न जाने कितने रास्ते जीवन में समाहित हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अहम के आगे कौन कुछ समझना चाहता है .... खूबसूरती से मन के भावों को लिखा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये दुविधा सबकी है और इससे गुजर कर ही राह निकलती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. jahan ahem ho wahan fir kuch bhi samajhna namumkin hi hota hai....sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं