Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सोमवार, 17 सितंबर 2012

राज़.......जो अब राज़ न रहा....








कुछ राज़ कहे हमने...उनसे यूँ अलहदा..
निकले तो साथ थे मगर राहें  हुई जुदा !!

कुछ राह वो थे भूले कुछ हम भी खो गए
नज़रें तो दूर तक गयीं मंजिल हुई जुदा !!

तेरी  निगेहबानी  का  क्या  शुक्रिया करूँ 
रुसवाइयां जो तूने दीं वो भी थीं अलहदा !!

माना ये राह-ए-जिंदगी सिखलाती है सबक
तूने जो दिया है सबक वो सबसे अलहदा !!

हमने किया यकीन था तुझपे बहुत मगर
न तुझको ही यकीन रहा खुद पे ,या खुदा !!








7 टिप्‍पणियां: