Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

तलाश..........

                                                   



                                                      वक़्त के इस दौर में 
                                           कुछ हादसे ऐसे हुए 
                                           एक तेरी मौत आई 
                                           एक मौत मेरी हुई ....!
                                              
                                           मैं फ़ना हो कर यहीं पे 
                                           पा गयी उसको सनम...!
                                           पर तलाश-ए-यार तेरी 
                                           अब तलक ज़ारी रही।...!!


                                                                   

                                                         


12 टिप्‍पणियां:

  1. वाह................
    क्या बात कही पूनम जी..
    मर मिटे हम भी...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!गज़ब की बात थोडे लफ़्ज़ों में!वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल 15/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत-बहुत सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. 'मैं' की तो कभी मौत नही होती,पूनम जी.
    हाँ,स्वरूप जरूर बदल जाता है.

    सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं