Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सोमवार, 2 जुलाई 2012

वादा......







                                             बड़ा  सलीके  से  वो झूठ  बोलना  तेरा,
                                             औ जान-बूझ कर नज़रें मेरी झुका लेना !

                                            वो तेरा  कहना कि मुझसे तुझे मोहब्बत है,
                                            न चाह कर भी मेरा दिल को यूँ मना लेना !
 
                                            जाने क्यूँ तोड़ दिया तूने फूल सा ये दिल,
                                            तेरा  आना भी जैसे दुश्मनी  निभा  देना !

                                            हमने एतबार किया  एक  तेरे वादे का ,
                                            इक जलती शमा सी जिंदगी बिता देना !





12 टिप्‍पणियां:

  1. मोहब्बत कर के निभायी न गयी तुमसे,
    बेवफाई का ताज तुम सर पे सजा लेना!

    जाने हिम्मत कैसे हुई उसकी????

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमने एतबार किया एक तेरे वादे का ,
    इक जलती शमा सी जिंदगी बिता देना !

    समर्पण की पराकाष्ठा है यह पंक्तियाँ ...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह ... दिलकश ...
    दिल की गहराइयों से लिखी बातें ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. पढ़ते हुए खो गया....समर्पित प्रेम में खोई नायिका की बेवफा नायक के ह्रदय में कोई स्पंदन नहीं !
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.
    शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा प्रस्तुति के लिए आभार


    प्रवरसेन की नगरी
    प्रवरपुर की कथा



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ पहली फ़ूहार और रुकी हुई जिंदगी" ♥


    ♥शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    उत्तर देंहटाएं
  6. कमाल लिखा है..उम्दा नज़्म....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ikइ जलती शमा सी ज़िन्दगी---- बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं