Text selection Lock by Hindi Blog Tips

गुरुवार, 28 जुलाई 2011

कोई तो है.......





दूर-दूर तक फैला
नीला विस्तृत आकाश...
किसी चित्रकार के
कैनवास की तरह
और उस पर..
यहाँ से वहां तक
कतारों में
फैला सफ़ेद बादल
रेगिस्तान की तरह
ऊंचा-नीचा,
न कोई पेड़-पौधे
न कोई पंछी, न इंसान
लेकिन फिर भी
कुछ दिखाई देता है
कुछ अनजाना सा अनबूझा सा...
पता नहीं क्या...???


5 टिप्‍पणियां:

  1. यह किस कवि की कल्पना का चमत्कार है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत......बादलों में किसी की तलाश है.....वो जिसका अक्स हर किसी पर पड़ता है......वही मिलेगा हर जगह.....और कोई है ही नहीं उसके सिवा|

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये दृश्य सहज गोचर नहीं है पूनम जी ... ध्यान की सुरुआत होती है यहाँ से साधकों के लिए और जन्नत की शुरुआत होती है यहीं से प्रेमियों के लिए !

    उत्तर देंहटाएं