Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 9 अगस्त 2011

भ्रम......




बदहवासी हर तरफ छाई है ऐसी
खोजते हैं लोग अब तन्हाइयां !
मुंह छुपा कर रो सकें चुपचाप वो 
और न देखे उन्हें अब ये जहाँ....!!

ओढ़ कर झूठा लबादा चैन का वो
बाँट कर लोगों को अपनी झूठी खुशी वो !
बन मसीहा हो गए मशहूर हैं सब..
दाग दामन में लिए फिरते हैं कितने वो !!

कर जहाँ की और इन्सां की बुराई  
रिश्तों और किस्मत की करके भी बुराई !
न मिला है चैन उनकी रूह को फिर भी
दे रहे हैं अब खुदा की ही दुहाई !!


9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियाँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Wese to puri rachna achi hai....
    Lekin bich ki line jyada psand aayi....
    Jai hind jai bharatWese to puri rachna achi hai....
    Lekin bich ki line jyada psand aayi....
    Jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुद को ही छलने का भ्रम बना लेते हैं लोग........सुन्दर पोस्ट|

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्दा सोच
    भावमय करते शब्‍दों के साथ गजब का लेखन ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अंततोगत्वा करनी का फल तो मिलना ही है - सार्थक और प्रेरक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. अत्यन्त सुन्दर रचना, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ....दे रहे हैं अब खुदा की ही दुहाई!
    वाह!

    उत्तर देंहटाएं