Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 9 नवंबर 2010

तुम्हारे लिए.........
तेरे आने का है  इंतज़ार
मैंने  तुझको पुकारा भी .
तू है सामने मेरे...
मैंने हाथ  बढाया भी ,
पर ए  खुदा !
मेरी लाख कोशिशों के बावजूद भी..
तू ये फासला न  तय कर सका, 
बढ़ने दीं  तूने ही मुश्किलें....
हमारे दरम्यान ,
और  खुद  हाथ पर हाथ धरे बैठा रहा,
फिर भी मेरी कोशिशें जारी हैं
तुझ तक पहुँचने की ,
तू भले ही ना आये मुझ तक
लेकिन..............
एक न एक दिन
मैं  ये फासला तय कर ही लूंगी !!!

5 टिप्‍पणियां:

  1. ....बेह्तरीन पोस्ट
    कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 13/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया पूनम जी ! बहुत प्यारी रचना ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं