Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 14 जुलाई 2015

उसने कहा था.....




उसने कहा था...
"ये क्यूँ सोचना कि....
कौन,कहाँ,कब,किसके साथ है..?
जो है...बस आज है..!
इसे एन्जॉय करो..
कल क्या हुआ...
उसकी न सोचो...!
यहाँ अपने लिए ही समय की कमी है...
फिर दूसरों के लिए सोचें...
ये किसको पड़ी है...?
जो था...जैसा था...
उसके बारे में सोचना क्या है...?"

फिर मैं सोच में पड़ गयी कि...
उसने जो किया और अब जो कहा...
उसमें सच्चाई कहाँ है...??
जीवन में इंसान के उसूलों की...
उसके अपने संस्कारों की...
फिर कीमत क्या है..?
एक इंसान जो दूसरों को...
पारवारिक संस्कारों और मूल्यों पर
घंटों भाषण दे सकता है...
इंसानी व्यवहार,भावनाओं 
और चारित्रिक विषयों पर 
बिना रुके न जाने 
कई दिनों तक बोल सकता है...
उसके अपने ही जीवन के मूल्य क्या हुए तब...?
उसके अपने संस्कार...अपने उसूल क्या हुए तब...?
वह अपने किये हुए हर काम को 
बड़े आराम से justify कर देता है...!
लेकिन....
दूसरों को संस्कार के तराजू में 
हर वक्त तोलता रहता है..!
ऐसे व्यक्ति के लिए 
अपना किया सब नगण्य हो जाता है...
शायद इसीलिए लिए वो...
हर रात चैन से सो पाता है...!
और मैं....
हर रात उसकी कुछ ऐसी ही बातों को
सोचती रह जाती हूँ...
शायद इसीलिए...
मैं ठीक से सो नहीं पाती हूँ...!



9 टिप्‍पणियां: