Text selection Lock by Hindi Blog Tips

शनिवार, 2 जून 2012

बहुत खामोश लम्हे हैं.......







हुत खामोश लम्हे हैं......मगर कुछ बात होती है 
कभी कहती अदा कुछ है....कभी नज़रों से होती है !

                                         वो तुझसे यूं ही मिल जाना...औ फिर मिल कर बिछ्ड जाना
                                        वो अश्कों का मचल जाना.........घड़ी मुश्किल वो होती है !         

तेरे आने की देता है...........खबर झोंका हवा का जब
महकते दिन मेरे और......... मुसकुराती रात होती है !

                                       तेरा कुछ यूं ही कह देना.....और फिर खामोश हो जाना
                                       मेरा यूं ही  समझ जाना..........खूबसूरत बात होती है  ! 

तेरे शाने पे रख कर सिर.........मुझे जब नींद आ जाए
कभी हम साथ होते तो........... कयामत साथ होती है !






20 टिप्‍पणियां:

  1. साथ हों तो क़यामत????
    ये हुई ना सच्ची मोहब्ब्त..................

    उत्तर देंहटाएं
  2. unke aane ki khabar ho rahi hai....
    sitaron ab to zameen pe tum bhi utar aao...

    Poonam ji bahut khoob....

    उत्तर देंहटाएं
  3. साथ हैं तो कयामत है, साथ नहीं तो कमायत का इन्तजार..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा ..... मन की पीड़ा लिए पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. "तेरा कुछ यूँ ही कह देना,और फ़िर खामोश हो जाना...."

    वाह! कमाल के जज़्बात और कमाल की अदायगी।

    वाह!कमाल का अन्दाज़-ए-बयाँ। वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  6. खामोशी बहुत कुछ कह जाती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. उनका यूं ही कहना .. खुद का यूं ही समझ जाना ... सच में ये बात मुहब्बत भी तो होती है ... जो खूबसूरत ही होती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत अहसास संजोती प्रस्तुति .....सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता की प्रत्येक पंक्ति में अत्यंत सुंदर भाव हैं.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुभानाल्लाह.....अब तो ग़ज़ल में भी अछे हाथ दिखाने लगी हो दीदी :-))

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहूत हि बेहतरीन
    लाजवाब गजल...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं