Text selection Lock by Hindi Blog Tips

रविवार, 19 अगस्त 2018

बात दिल की सुना गया कोई...



बात दिल की सुना गया कोई...
आस फिर से जगा गया कोई...!

राज़ अब तक छुपाये बैठे थे...
आज सबको बता गया कोई...!

राबिता कुछ न कुछ तो होगा ही...
सारे रिश्ते निभा गया कोई...!

इक नदी मुद्दतों से सूखी थी...
चन्द कतरे बहा गया कोई...!

ज़िन्दगी की उदास राहों में...
ख़्वाब रंगीं सजा गया कोई...!

कुछ तो है रूठने मनाने में...
शबनमी गुल खिला गया कोई...!

रात 'पूनम' की दिल ने दस्तक दी..
बन के मेहमान आ गया कोई..!

***पूनम***


12 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, परमात्मा को धोखा कैसे दोगे ? - ओशो “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं


  2. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 22 अगस्त 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!



    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर और जज़्बाती ग़ज़ल पड़कर मज़ा आ गया।धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम के इस असर को प्रकृति बाखूबी समझती है और उसी के प्रतीक बेहतर तरीके इस इसे बयां भी कर सकते हैं ...
    लाजवाब शेर हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया है सारे शेर...बहुत सुंदर रचना..👌👌

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत उम्दा हर शेर सहज और सटीक ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. रात 'पूनम' की दिल ने दस्तक दी..
    बन के मेहमान आ गया कोई..!
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं