Text selection Lock by Hindi Blog Tips

मंगलवार, 21 अगस्त 2012

मोम ......









                                  मोम को न जाने क्यूँ 
                            पत्थर बनाने में लगे रहते हैं लोग 
                               और फिर उम्मीद करते हैं 
                                  कि वो वापस मोम हो जाये....








10 टिप्‍पणियां:

  1. पूनम जी, मोम के बहाने आपने बहुत बडी बात कह दी।

    एकदम गागर में सागर समा गया हो जैसे।

    ............
    डायन का तिलिस्‍म!
    हर अदा पर निसार हो जाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  2. yaee khaasiyat mom kee,kabhe patthar bantee,kabhee pighaltee,

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत खुबसूरत है पोस्ट।

    जवाब देंहटाएं
  4. सचमुच ! जैसे हम स्वयं ही अपनों को दूर करते हैं फिर उन्हें करीब पाना चाहते हैं..

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी पोस्ट आज 23/8/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 980 :चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत गहन भाव छिपा है इन पंक्तियों में व्यक्तित्व में परिवर्तन बार बार नहीं होता एक बार कठोर हो गया तो फिर से उसका पिघलना नामुमकिन है

    जवाब देंहटाएं