Text selection Lock by Hindi Blog Tips

गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

ज़रा तुम साथ चलो.............




                                   
                                    फूल ही फूल से खिल जाएँ जो तुम हंस दो ज़रा
                                   मंजिलें पास में आ जाएँ....ज़रा तुम साथ चलो !

                                   जाने क्या खो गया है.......आज इस तन्हाई  में'
                                   वो भी हो जाएगा हासिल.....जरा तुम साथ चलो !

                                   ये खिला चाँद.......ये हवाएं........शबनमी रातें
                                   सभी हो जाएँ मेहरबाँ.......जरा तुम साथ चलो !

                                   वैसे मैं खुश ही हूँ........तू साथ रहे......या न रहे
                                   होगी कुछ बात अलग सी....ज़रा तुम साथ चलो !

                                   जो दिया तूने......उसे रखा है.......सिर  माथे  पे
                                   कभी तू भी तो ले इलज़ाम....जरा तुम साथ चलो !

                                   मेरे  ज़नाज़े में हो जायेंगे....यूँ  तो  सभी शामिल
                                  मगर होगा नया अंदाज़......जरा तुम साथ चलो !

19 टिप्‍पणियां:

  1. जो दिया तूने......उसे रखा है.......सिर माथे पे
    कभी तू भी तो ले इलज़ाम....जरा तुम साथ चलो !

    बेहतरीन पंक्तियाँ!

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह …………………बहुत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  3. अगर उसके बिना भी खुश रहना आता है तब वह साथ नहीं भी चल सकता...वह बहुत नखरे वाला है...आभार!

    जवाब देंहटाएं
  4. saath chalnaa ,saath nibhaanaa
    kar degaa hasratein sab pooree
    jaraa tum saath chalo

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत गजल ... अंतिम दो शेर लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  6. मगर होगा नया अंदाज़--- जरा तुम साथ चलो
    बेहतरीन शेर पूनम जी !

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!

    जवाब देंहटाएं
  8. किसी का साथ मिल जाये तो मंजिल आसन हो जाती है.....सुन्दर पोस्ट।

    जवाब देंहटाएं
  9. जब वो साथ हों तो सब कुछ आसानी से मिल जाता है ... दरअसल तब कोई इच्छा ही नहीं रहती है ....

    जवाब देंहटाएं